शहरों में जैसे-जैसे फ़्लैट का कल्चर बढ़ रहा है वैसे-वैसे छोटी से छोटी जगह की अहमियत अपने आप बढ़ती जा रही है। चुकी फ्लाइट कल्चर में हर घर में टेरेस उपलब्ध होने के चांसेस नहीं होते हैं इसलिए प्रकृति से जुड़े रहने का सबसे बेहतर और एकमात्र उपाय बालकनी ही है। प्रत्येक फ़्लैट में बालकनी एक ऐसा स्थान होती है जिसमें व्यक्ति ईट पत्थर की दीवारों से बाहर निकलकर थोड़ा प्रकृति के सानिध्य में जाता है। अगर थोड़ी शुद्ध हवा खानी है तो बालकनी ही एक मात्र सहारा होता है। हालाँकि कई लोग बालकनी को स्टोर की तरह यूज करते हैं और स्टोर से भी बढ़कर वह एक कूड़े घर के रूप में तब्दील हो जाती है।

घर की कोई बेकार वस्तु पड़ी है तो लोग उसे बालकनी में रख देते हैं,या घर की अगर कोई टूटी-फूटी वस्तु है तो उसे बालकनी में रख देते हैं। तात्कालिक रूप से तो यह आसान लगता है किंतु लंबे समय के लिए सर दर्द बन जाता है। कुछ बिंदुओं पर ध्यान दिया जाये तो बालकनी की उपयोगिता और बढ़ जाएगी और आपको और भी अधिक आनंद का एहसास होगा। तो अपनी बालकनी को किस प्रकार से आपको चकाचक रखना चाहिए आइए जानते हैं।


Image Source: pictorem

सबसे मजेदार बात तो यह है कि इसके लिए किसी ज्यादा खर्च की जरूरत भी नहीं है बल्कि आप छुट्टियों में यह सब कार्य खुद भी कर सकते हैं वस्तुतः यह एक आर्ट है जिसे आपको सिखने की जरुरत है। हालांकि आजकल इस कार्य के लिए लोग इंटीरियर डिजाइनर्स को भी हायर करने लगे हैं।

कूड़ेदान ना बनाए

जी हां सबसे पहले आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि किसी भी अनुपयोगी वस्तु को स्थाई रूप से आप बालकनी में ना रखें। बल्कि अगर तात्कालिक रूप से ऐसी कोई आवश्यकता आती भी है कि आपको कमरे का समान कहीं बाहर रखना है तो नियमित रूप से उस सामान की सफाई करें। वहीँ अगर यूज़ में आने वाला सामान है तो उसे बनवाकर यूज़ में लाएं उसे बेकार बालकनी में ना रहने दें।


Image Source : youtube

छोटे गमलों का करें प्रयोग

अक्सर बालकनी में स्पेस की कमी होती है और वहां अगर आपको खड़े होने की ही जगह नहीं है तो फिर यह बड़ा मुश्किल हो जाता है कि गार्डनिंग कैसे की जाए। तो यह बात आपको समझ लेनी चाहिए कि बालकनी गार्डनिंग करने का कोई स्थान नहीं है बल्कि आपकी सुकून तलाशने का स्थान है। हाँ अगर बालकनी में हरियाली अगर आप चाहते हैं तो छोटे गमलों का प्रयोग करें विशेषकर हैंगिंग पार्ट्स आते हैं जिसको आप ऊपर छत से लटका सकते हैं।

सबसे विशेष बात यह है कि रात के समय अगर बेहतरीन लाइट्स का आपने प्रयोग किया है तो बालकनी में खड़े होने पर आपको असीम आनंद का अनुभव होगा। बेहतरीन लाइट्स और डेकोरेशन करने के साथ ही विशेष ध्यान रखें कि ज्यादा जगह इस्तेमाल ना हो और बालकनी की सार्थकता बनी रहे।


Image Source : fromlextolexicon

पानी इकठ्ठा न होने दें

अक्सर बालकनी के कोनों में पानी इकठ्ठा हो जाता चाहें वो बारिश का पानी हो या गमलों से निकला हो। इसकी नियमित सफाई पर विशेष ध्यान दें। नहीं तो पानी इकठ्ठा होने से बदबू आने के साथ ही मच्छरों के पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है।

Leave a comment