वर्तमान समय में हर तीसरा या चौथा व्यक्ति मोटापे से ग्रसित है। मोटापे का सबसे बड़ा कारण अनियमित दिनचर्या माना जाता है, लेकिन कई बार शरीर में केमिकल इंबैलेंस होने से भी मोटापा हावी हो जाता है। सबसे मुश्किल यह होती है कि कई लोग तमाम प्रयास करते हैं, इसके बावजूद भी मोटापा कम नहीं होता है। जाहिर तौर पर इसका असर उनकी मन की स्थिति पर पड़ने लगता है, परंतु एक रिसर्च में बताया गया है कि अगर मोटे लोग रेगुलर एक्सरसाइज करते हैं तो इससे उनकी शारीरिक फिटनेस के अलावा उनका ब्रेन फंक्शन भी बेहतर हो जाता है। यह तो हमें पता ही है कि एक्सरसाइज करने से मेटाबॉलिज्म इंप्रूव होता है और इसका असर मोटे लोगों पर भी निश्चित मात्रा में होता है। आइए जानते हैं इसकी बारीकियों को-

इंसुलिन की कमी

रिसर्च में बताया गया है कि भारी लोगों के मस्तिष्क में इंसुलिन कम मात्रा में होता है और इसी वजह से उनके दिमाग की क्षमता धीरे-धीरे प्रभावित होती है। इस रिसर्च में यह भी बताया गया है कि 1 सप्ताह में तकरीबन डेढ़ सौ (150) मिनट एक्सरसाइज करना बेहद आवश्यक है।

Pic: lifehacker

जाहिर तौर पर मोटे लोगों के लिए इस चीज की अहमियत और बढ़ जाती है, क्योंकि इससे डायबिटीज, हार्टअटैक हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों का भी खतरा होता है।

रोजाना एक्सरसाइज

व्यायाम को नियमित करने से हमारे दिमाग में ब्लड सरकुलेशन बढ़ जाता है, जिससे दिमाग की प्रोसेसिंग भी तेज होती है। जाहिर तौर पर तब ब्रेन फंक्शन बेहतर ढंग से काम करता है। इसके पीछे के कारणों को देखें, तो मस्तिष्क में एक खास न्यूरोट्रांसमीटर मिलता है जिसे डोपामाइन कहते हैं। यह डोपामाइन ही नई पुरानी बातों को याद रखने के लिए आवश्यक होता है।

जैसे ही मोटे लोग प्रतिदिन एक्सरसाइज करते हैं तो डोपामाइन का लेवल भी बढ़ता है और निश्चित रूप से इस तरीके से दिमाग की फंक्शन बेहतर होती चली जाती है।

स्विमिंग

तैराकी अपने आप में एक पूरा व्यायाम है। चूंकि स्विमिंग की खासियत है कि जब आप यह करते हैं, उस दौरान आपके शरीर के सभी अंग एक्टिव रहते हैं। ऐसे में रेगुलर तैराकी से खुद को फिट रखा जा सकता है और मोटापे को दूर रखा जा सकता है। ध्यान रहे कि स्वीमिंग, जमीन पर किये जाने वाले अन्य व्यायामों के कोम्पैरिजन में तकरीबन 12 गुना बेहतर माना जाता है। वैसे यह दिमाग के लिए बेहद फायदेमंद एक्सरसाइज होती है और इसका कारण बड़ा साफ़ है।

Pic: military

आप जब तैराकी करते हैं और आपका शरीर सीने तक पानी में होता है, तब दिमाग में ब्लड सर्कुलेशन बहुत ही बेहतर हो जाता है। चूंकि, स्वीमिंग करने से स्ट्रेचिंग के साथ-साथ तेजी से सांस लेना पड़ता है, अतः इनके कारण दिमाग मजबूत होने के चांसेज बढ़ जाते हैं। खासकर मोटे लोगों की बात करें तो यह उनके लिए अमृत-सदृश माना जाता है। ध्यान रखिये, तैराकी से आपकी बॉडी में बैड कोलेस्ट्रॉल कम होता है, किन्तु गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है। इस सम्बन्ध में हफ्ते में तकरीबन पांच दिन तैराकी की सलाह दी जाती है।

इस बारे में आपका क्या कहना है कमेंट बॉक्स में बताएं।

Leave a comment